Share
Facebook और Google जैसी विदेशी डिजिटल कंपनियों पर भारत लगा सकता है Tax.

Facebook और Google जैसी विदेशी डिजिटल कंपनियों पर भारत लगा सकता है Tax.

Digital India होने के साथ साथ देश पूरी तरह Internet का ग़ुलाम बन चूका है। इसलिए भारत ने भी इंटरनेट के माध्यम से फायदा कमाने का यह तरीक़ा निकाला है। अब विदेशी डिजिटल कम्पनीज को भारत में Tax का भुक्तान करना होगा।

India  आजकल विदेशी डिजिटल कंपनियों के माध्यम से प्रॉफिट कमाने की तैयारी कर रहा है। इस बार प्रॉफिट के लिए Google , Facebook, Netflix जैसी बड़ी-बड़ी डिजिटल कंपनियों की लगाम कसी जा सकती है। 8-9 जून को जापान में G20 समिट है, जिसमें India  की ओर से इन कंपनियों पर Tax  लगाने का प्रस्ताव पेश किया जाएगा।

Google और Facebook पे टैक्स लगाना किस हद तक ठीक है ये तो खुद जनता को सोचना होगा। जहाँ एक तरफ डिजिटल इंडिया बनाकर इन सब चीज़ों का आदि बनाने वाली भी सरकार थी वही दूसरी और इसपर टैक्स लगाने वाली भी खुद सरकार ही है। और इससे प्रभाव बस जनता पर पड़ता है।

Tax  लगा कर प्रॉफिट कमाने का यह फॉर्मूला India  के लिए पहले भी फायदेमंद साबित हो चुका है। 2016 में India  ने देश में विज्ञापनों से कमाई करने वाली विदेशी डिजिटल कंपनियों पर 6 फीसदी Tax  लगाया था, जिसके बाद 2018-19 में सरकार ने इस Tax  से 1000 करोड़ रुपये से भी ज्यादा की कमाई की।

Facebook और Google जैसी विदेशी डिजिटल कंपनियों पर भारत लगा सकता है Tax.
Source: Finance Yahoo .com

आखिर  क्यों लगाना चाहिए Tax  ?

दरअसल विदेशी इंटरनेट कंपनियां कम Tax  वाले न्याय क्षेत्रों से ऑपरेट करती हैं, जबकि उनका व्यापार कई अन्य जगहों पर भी फैला रहता है, जहां से उन्हें करोड़ों का फायदा होता है। जब कोई भारतीय ग्राहक इनकी सुविधाओं का उपयोग करता है, या इन कंपनियों को विज्ञापन देता है, तो इसका भी सीधा फायदा उन कंपनियों को ही होता है। इसके बावजूद उन्हें India  में Tax  नहीं देना पड़ता है, क्योंकि वो यहां मौजूद नहीं हैं। ऐस में यहां से हुई लोकल कमाई पर कंपनियों का Tax  बच जाता है। इनकी जगह अगर कोई भारतीय कंपनी अपने ही देश में ऐसे व्यापार करती, तो उसे लाखों करोड़ो का Tax  देना पड़ता।

जिन देशों में इन कंपनियों के यूजर्स हैं, वहां के न्याय क्षेत्र के हिसाब से अगर इन पर Tax  लगा दिए जाएं, तो कंपनी की कुल प्रॉफिट पर सरकार को बड़ा फायदा होगा। India  2016 के बाद इस बार इन विदेशी डिजिटल कंपनियों पर और उनकी आर्थिक उपस्थिति के आधार पर Tax  लगाने की पेशकश करेगा।

Source: Amar Ujala

Leave a Comment