Share

सरकारी कार्यक्रमों पर लगी रोक से गुस्साए ग्रामीणों ने उपराज्यपाल किरण बेदी के खिलाफ लगाये नारे|

न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक यह घटना उस समय हुई जब अपनी कामकाज की शैली से साारूढ कांग्रेस द्वारा कड़ी आलोचना की शिकार किरण अपने नियमित सप्ताहांत दौरे के तहत गांव में स्वयंसेवी संगठनों के सदस्यों से बातचीत कर रही थीं। इसी दौरान समूह ने उनके खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। इस समूह में महिलाएं भी शामिल थीं|

समूह के सदस्यों ने आरोप लगाया कि किरण ने मुफ्त चावल वितरण रोक दिया और कई अन्य कल्याण योजनाओं का क्रियान्वयन रोक दिया। राजनिवास ने एक विज्ञत्ति में कहा कि गांववालों के एक समूह ने जानबूझाकर एकत्रित होकर हंगामा किया और वह उपराज्यपाल के खिलाफ आरोप लगाते रहे।पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को तितर बितर किया और किरण ने अपनी बातचीत जारी रखी और गांववालों से उनकी चिंताएं पूछीं।

Leave a Comment