Share
आंकड़े बता रहे हैं, मोदी जी की विदाई होना तय, BJP के 60% मौजूदा सांसद हार रहे चुनाव!

आंकड़े बता रहे हैं, मोदी जी की विदाई होना तय, BJP के 60% मौजूदा सांसद हार रहे चुनाव!

Loksabha Elections 2019 के लिए 5 चरणों का मतदान समाप्त हो गया है। अब सिर्फ 2 चरण के चुनाव बाकी हैं। छठे चरण के लिए 12 मई को वोट डाले जाएंगे। जबकि आखिरी चरण के लिए 19 मई को मतदान कराया जाएगा। 23 मई को चुनाव परिणाम घोषित किए जाएंगे। सभी दलों के अपने अपने दावे हैं। लेकिन जमीनी स्थिति और आंकड़ों बता रहे हैं कि मोदी सरकार की विदाई तय है। और मोदी जी ही जा रहे हैं .

मोदी जी जारहे हैं इस बात का सबूत सिर्फ ग्राउंड रिपोर्ट ही नहीं दे रही बल्कि मोदी सरकार के कुछ कद्दावर नेता भी कह चुके हैं . हाल की में BJP के बड़े नेता सुब्रमनियम स्वामी और राम माधव जी नें खुद यह कहा है की BJP बहुमत से पीछे रह जाएगी .

क्या रहा है चुनावी नतीजों का इतिहास

  • आजादी के बाद 1951 में देश में पहली बार Loksabha Elections कराए गए। इस चुनाव से लेकर अभी तक हुए सभी चुनाव के ट्रेंड को देखें तो करीब 60 फीसदी मौजूदा सांसद दोबारा नहीं जीत पाते हैं और उन्हें चुनाव में हार का सामना करना पड़ता है।

चुनावी आकड़े 

  • आंकड़े बताते हैं कि लोकसभा चुनाव में हर 5 में से 3 मौजूदा सांसद हार जाते हैं। वहीं नए उम्मीदवारों के जीतने का चांस ज्यादा होते हैं। अब तक हुए 16 लोकसभा चुनाव में 4843 नेता सांसद बने हैं।
  • India Today  की रिपोर्ट के मुताबिक 1951 से 2019 के बीच अब तक 4865 नेता सांसद बने, जिसमें से 22 को नामांकित किया गया था। बाकी 4843 चुनाव जीतकर सांसद बने।

आंकड़े बता रहे हैं, मोदी की विदाई होना तय, BJP के 60% मौजूदा सांसद हार रहे चुनाव!

  • वहीं 4843 सांसदों में से 2840 सांसद दोबारा चुनाव नहीं जीत सके। जनता ने करीब 60 फीसदी जीते हुए सांसदों को दोबारा मौका नहीं दिया। वहीं 2003 नेता ऐसे हैं जो दुबारा लोकसभा चुनाव जीतने में कामयाब रहे। हालांकि, इनमें से 50 फीसदी सांसद ऐसे हैं जो तीसरी बार सांसद बनने में नाकाम रहे।

अभी तक हुए सभी Loksabha Elections में यही ट्रेंड देखा गया है। अगर इस बार के चुनाव का परिणाम भी कुछ इसी तरह का रहता है तो देश को नया प्रधानमंत्री मिलना तय है।

बता दें कि इस बार BJP अकेले कुल 437 लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ रही है। इनमें से 270 उम्मीदवार वर्तमान में सांसद हैं। ऐसे में अगर अभी तक हुए लोकसभा चुनाव के ट्रेंड को देखें तो बीजेपी के 270 मौजूदा सांसदों में से 162 सांसद चुनाव हार सकते हैं। वहीं 102 मौजूदा सांसदों का टिकट काट दिया गया है। यानी करीब 38 प्रतिशत सांसदों के टिकट काट दिए गए हैं।

और अभी हाल ही की बात की जाए तो लगातार बीजेपी की रैलियों में लोगों का रुझान कम हुआ है इसकी वजह मोदी जी की वही पुराने अंदाज़ वाले भाषण हो सकती है या लोगों को कुछ बदलाव की उम्मीद है .

कुछ इस तरह अगर अंदाज़ा लगाया है तो BJP द्वारा चलाया गया ट्रेंड (#AaegaToModiHi) अब ग़लत भी साबित सकता क्यूंकि इस तरह सिर्फ Modi जी की ही विदाई होना तय है .

Source: नवजीवन 

Leave a Comment