Share
UPA में भी हुईं थी Surgical Strikes लेकिन हमने नहीं उठाया राजनीतिक फायदा : Manmohan Singh

UPA में भी हुईं थी Surgical Strikes लेकिन हमने नहीं उठाया राजनीतिक फायदा : Manmohan Singh

मोदी सरकार में हुई Surgical Strike पर लंबे समय से छिड़ी सियासी जंग में कांग्रेस ने आज नए खुलासों के साथ केंद्र पर हमला बोला है पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा है कि कांग्रेस की अगुवाई वाली UPA सरकार के दौरान भी भारतीय सेना(Indian Army) के जवानों ने कई बार Surgical Strikes को अंजाम दिया है, लेकिन हमने कभी सेना के शौर्य और ऑपरेशन की सफलताओं पर चुनावों में वोट नहीं माँगा. मनमोहन सरकार में मंत्री रहे TRS प्रमुख और तेलंगाना के सीएम के चंद्रशेखर राव ने भी चुनाव प्रचार के दौराना दावा किया था कि कांग्रेस यूपीए सरकार के दौरान 11 Surgical Strikes हुए पर उसका प्रचार करके चुनाव में वोट कभी नहीं मांगा गया. बीजेपी और नरेंद्र मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि पिछले 70 सालों में ये पहली सरकार है जो सेना का इस्तेमाल वोट पाने के लिए कर रही है. लोकसभा चुनाव में इस बार राष्ट्रीय सुरक्षा का मुद्दा छाया हुआ है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपनी कई चुनावी रैलियों में सेना के पराक्रम का जिक्र किया है. उन्होंने Surgical Strikes और बालाकोट Air Strike  का श्रेय केंद्र में मजबूत सरकार को दिया. अंग्रेजी अखबार हिंदुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने नरेंद्र मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है.

source: the Week

पुलवामा में CRPF के काफिले पर आतंकी हमले को मोदी सरकार की बड़ी चूक बताते हुए Manmohan Singh ने कहा कि हमारे 40 से भी ज्यादा जवान शहीद हो गए. ये हमारी बड़ी चूक है. CRPF ने बटालियन को AirLift करने की मांग की थी जिसे नहीं माना गया. जम्मू-कश्मीर पुलिस ने भी पहले से खुफिया चेतावनी दी थी कि फिदायीन IED ब्लास्ट से हमला कर सकते हैं, इसके बावजूद सरकार सोती रही. Manmohan Singh ने कहा कि पिछले पांच साल में लगातार हमारे सैन्य ठिकानों पर हमले होते रहे हैं. उरी, पठानकोट, गुरदासपुर, सुंजवान आर्मी कैंप के साथ-साथ अमरनाथ यात्रा तक पर हमला हो हुआ.

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि पठानकोट हमले की जांच के लिए ISI को आमंत्रित करना मोदी सरकार की सबसे बड़ी रणनीतिक भूल थी. इससे हमारी सेना का मनोबल कमजोर हुआ. Manmohan Singh ने कहा कि पिछले पांच सालों में देश की स्थिति सुरक्षा के मोर्चे पर कमजोर हुई है. चाहे वह सीमा पार से होने वाले हमले हों या जम्मू-कश्मीर के लगातार खराब होते हालात हों. BJP – BDI गठबंधन सरकार में कश्मीर घाटी की स्थिति बद से बदतर हुई. मनमोहन सिंह ने कहा कि मोदी सरकार जिस तरह सेना की आड़ लेकर BJP की वोट और चुनाव की राजनीति साध रही है, यह शर्मनाक है. गया लेकिन कभी उसकी पब्लिसिटी नहीं की गई और ना ही चुनाव या वोट के लिए उसका इस्तेमाल किया गया.

source: Best Hindi News

UPA काल में केंद्रीय मंत्री रहे राजीव शुक्ला ने मोदी सरकार के घेरते हुए कहा कि UPA शासन में 6 बार Surgical Strikes की गई। वहीं, अटल सरकार के दौरान दो बार Surgical Strikes की गई थी।

शुक्ला ने UPA शासन में की गई Surgical Strikes की तारीखों का भी ब्योरा दिया है। प्रेस कॉन्फ्रेंस में शुक्ला ने कहा कि हमने Surgical Strikes की लेकिन इसका श्रेय लेने कि लिए कभी छाती नहीं पीटी। उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में एक बार Surgical Strikes की गई और इसका श्रेय लेने के लिए खुद ही केंद्र सरकार अपनी पीठ थपथपा रही है। न तो पूर्व पीएम मनमोहन सिंह और न ही अटल बिहारी वाजपेयी ने सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर कभी प्रेस कॉन्फ्रेंस की।


राजीव शुक्ला ने बताया कि UPA शासन में –

19 जून 2008 को जम्मू-कश्मीर के पुंछ में भट्टल सेक्टर में पहली सर्जिकल स्ट्राइक की गई थी।

दूसरी Surgical Strike 30 अगस्त से 1 सितंबर 2011 के बीच शारदा सेक्टर के नीलव नदी घाटी के केल में की गई।

उन्होंने कहा कि सावन पत्र चेकपोस्ट पर 6 जनवरी 2013 को तीसरी Surgical Strike की गई।

27 जुलाई और 28 जुलाई 2013 को नाज़पीर सेक्टर में और 6 अगस्त 2013 को नीलम घाटी में पांचवीं बार आतंकियों पर Surgical Strike की गई।

14 जनवरी 2014 को छठीं बार यूपीए शासनकाल में Surgical Strike की गई।

यह पहली बार नहीं है जब कांग्रेस ने यूपीए कार्यकाल में हुई Surgical Strike का जिक्र किया हो। लेकिन ऐसा पहली बार है जब कांग्रेस ने UPA शासन में हुई Surgical Strike की तारीखों का ब्योरा दिया है


यह भी पढ़े : Surgical Strikes और शहीदों के नाम पर वोट मांग रहे हैं मोदी .

वहीँ दूसरी और देश के प्रधान सेवक सेनिकों की शहादत का ग़लत फायदा उठाने में जादा भी नहीं चुक रहे . इस चुनाव में उन्होंने कई बार Pulwama हमला , शहीद सैनिक और सर्जिकल स्ट्राइक्स के नाम पर वोट मांगे . देखना होगा इस तरह बेबुन्यादी चीजों पर आखिर कबतक BJP देश की जनता से वोटों की मांग करेगी .

Source: Live HIndustan

Leave a Comment