Share
Budget 2019 Income Tax Slabs: नए बजट में Middle Class को मिल सकती है Income Tax से राहत , जानिए कितनी संभावना ?

Budget 2019 Income Tax Slabs: नए बजट में Middle Class को मिल सकती है Income Tax से राहत , जानिए कितनी संभावना ?

आज संसद में वित्त मंत्री श्री निर्मला सीहरमण जी में एक अनोखे तरीके से नए Budget को पेश किया जिसमे माना जा रहा है कि यह बजट मध्यम वर्ग के लोगो के लिए फायदेमंद साबित होगा क्योंकि उम्मीद है इस Budget के चलते मध्यम वर्ग का टैक्स कम होने की संभावना है उन्हें टैक्स से रहत मिल सकती है .

नवभारत टाइम्स के लेख के अनुसार ,Budget  2019 के प्रस्तावों को कैबिनेट की मंजूरी के बाद वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण लोकसभा में मोदी सरकार 2.0 का पहला Budget  पेश कर रही हैं। इस साल फरवरी में पीयूष गोयल ने अंतरिम Budget  में 5 लाख तक की सालाना टैक्सेबल आमदनी वालों को Tax से पूरी तरह से राहत देने के साथ ही कहा था कि यह पूर्ण Budget  नहीं है इसलिए हम Income Tax Slabs में छेड़छाड़ नहीं कर रहे हैं। ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि अंतरिम Budget  में बहुत सी घोषणा नहीं कर पाने वाली मोदी सरकार अब दोबारा सत्ता में आने पर लोगों को खुश करने के उपाय कर सकती है ।

Photo: HB Fuller

चलिए बताते हैं कि Income Tax को लेकर क्या – क्या उम्मीदें हैं और इसके पूरी होने की कितनी संभावनाएं हैं –

उम्मीद 1: मोदी सरकार अंतरिम Budget  में 5 लाख रुपये तक की सालाना टैक्सेबल इनकम वालों को Tax से राहत दे चुकी है ऐसे में लोगों को उम्मीद है कि पूर्ण Budget  में ढाई लाख से 5 लाख तक वाले स्लैब को खत्म किया जा सकता है। उम्मीद यह भी जताई जा रही है कि 5 से 10 लाख रुपये तक की आय पर Income Tax की दर 20% से घटाकर 15 फीसदी हो जाए।

लेकिन  Income Tax से छूट की सीमा बढ़ाकर सीधे 5लाख किए जाने की संभावन नगण्य हैलेकिन मौजूदा ढाई लाख से 5 लाख के स्लैब में 5 फीसदी और 5 लाख से 10 लाख के 20 फीसदी स्लैब के बीच एक 10 फीसदी का स्लैब शुरू किया जा सकता है।

उम्मीद 2 : Income Tax को लेकर दूसरी उम्मीद यह है किअधिकतम 30 फीसदी स्लैब के लिए आय की सीमा मौजूदा 10 लाख से बढ़ाकर 20 लाख रुपये की जाए ।

लेकिन इसके पूरी होने की संभावना बहुत अधिक है क्योंकि सरकार पांच लाख तक के सालाना टैक्सेबल आय वालों को Income Tax से छूट दे चुकी है और पिछले कुछ वर्षों में औसत आय भी बढ़ी है।

Source: Navbharat Times

Leave a Comment