Share

.. बोलीं लोगों को डराना और धोखा देना मोदी सरकार का काम है। जानिए कौन ?

पूरे देश में भय और संघर्ष का माहौल है. मोदी सरकार लगातार संविधान के मूल्यों, सिद्धांतों और प्रावधानों पर हमले कर रही है. जी हाँ यह हमला मोदी जी पर किसी और ने नहीं बल्कि खुद सोनिया गाँधी नें बोला है। इससे पता चलता है की भले ही सोनिया जी बीमार हों लेकिन राजनीतिक दाव खेलना अभी भूली नहीं हैं।

न्यूज़ 18 हिंदी के लेख के अनुसार ,दिल्ली में कांग्रेस की संसदीय दल की बैठक में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोलते हुए कहा कि पिछले पांच सालों में सच और पार्दर्शिता को ताक पर रख दिया है. बुधवार सुबह से ही कांग्रेस संसदीय दल की बैठक चल रही थी, जिसमें राहुल गांधी, सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे और अन्‍य कांग्रेसी नेता मौजूद थे.

source: DNA India

सोनिया गांधी ने कहा कि पूरे देश में भय और संघर्ष का माहौल है. मोदी सरकार लगातार संविधान के मूल्यों, सिद्धांतों और प्रावधानों पर हमले कर रही है. संस्थाओं को बर्बाद किया जा रहा है, राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाया जा रहा है, जो सहमत नहीं है उनको दबाया जा रहा है और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का गला घोंटने की कोशिश की जा रही है. पूरे देश में डर और संघर्ष का माहौल है.”

वहीं राहुल गांधी ने कहा, ‘कांग्रेस एकमात्र पार्टी है जो कि बीजेपी को विचारधारा के स्तर पर रोज़ हरा रही है. कांग्रेस पूरे देश को एक मानकर आवाज़ उठाती है. बरोज़गारी, नोटबंदी और राफेल जैसे मुद्दों ने मोदी सरकार की विश्वसनीयता को कम किया है.’

source: India TV

दरअसल, राफेल मुद्दे पर कांग्रेस और भाजपा के बीच जारी बहस का स्तर उस वक्त काफी गिर गया था जब राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर देशद्रोह और अनिल अंबानी के बिचौलिये के रूप में काम करने का आरोप लगाया था. इस पर पलटवार करते हुए बीजेपी नेता रवि शंकर प्रसाद ने कहा, ‘गांधी परिवार का देश को लूटने का इतिहास रहा है. यह बेशर्मी और गैरजिम्मेदारी की पराकाष्ठा है कि कांग्रेस अध्यक्ष ईमानदार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कीचड़ उछाल रहे हैं.’

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने एक इंग्लिश डेली की रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा, 36 राफेल की खरीददारी का मूल्य यूपीए सरकार की तुलना में 55 फीसदी ज़्यादा था साथ ही यूरोफाइटर द्वारा 25 फीसदी डिस्काउंट के प्रस्ताव को ठुकराकर भी नुकसान हुआ है.

Leave a Comment