Share
BJP से 78 उम्मीदवारों को दुबारा मिला टिकेट , 35 नेताओं पर दर्ज हैं अपराधी मुकद्दमें| क्या मोदी सरकार Criminals से कराएगी देश का विकास ??

BJP से 78 उम्मीदवारों को दुबारा मिला टिकेट , 35 नेताओं पर दर्ज हैं अपराधी मुकद्दमें| क्या मोदी सरकार Criminals से कराएगी देश का विकास ??

आपको बता दें की BJP नें अपने 184 उम्मीदवारों की सूची जारी की है ,जैसा की नामांकन पत्र पर खिलाफ चल रहे मुकद्दमे लिखना ज़रूरी है , उसके अनुसार सूत्र बता रहे हैं कि 184 में से 35 उमीदवार अपराधी हैं और उनपर मुकद्दमे चल रहे हैं , और मज़े की बात यह कि यह लोग पहली  BJP के ही उमीदवार है | बड़ा सवाल यह है BJP इसे व्यक्तियों को जीने हाथ लहू में डूबे हैं और दामन मुकदमें से सने हों,उन्हें अपना उम्मीदवार बनाके देश का विकास करेगी | जनता को इसपर सोच विचार कर , अपना मतदान करना होगा |

News18.com के लेख के अनुसार ,भारत में राजनीति और अपराध का संबंध इतना अटूट है कि अगर ‘बिना आपराधिक रिकॉर्ड के राजनेता’ की बात की जाए तो यह विरोधाभास जैसा होगा. देश लोकसभा चुनाव की तैयारी कर रहा है और मतदान में 25 से भी कम दिन बाकी हैं, तो एक बार फिर इसकी चर्चा जायज है.

Image result for tensed amit shah and modi

 

भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने गुरुवार को 184 उम्मीदवारों की अपनी पहली सूची जारी की. 184 उम्मीदवारों में से 35 (कुल उम्मीदवारों का 19%) ने 2014 में खुद के खिलाफ आपराधिक मुकदमों की घोषणा की थी. Myneta.info नाम की एक वेबसाइट ने ये जानकारी दी है जो चुनाव मैदान में उतरे उम्मीदवारों के शपथ पत्रों का विश्लेषण करती है.

नामांकन के दौरान प्रत्याशी शपथ पत्र देता है, जिसमें उसे अपने खिलाफ दर्ज आपराधिक मुकदमों की जानकारी देनी होती है, अगर कोई है तो | आपराधिक रिकॉर्ड वाले ये 35 बीजेपी उम्मीदवार, उन 78 उम्मीदवारों में शामिल हैं, जिन्हें पिछली बार भी टिकट मिला था. अभी  अन्य 106 उम्मीदवारों का विश्लेषण नहीं हो  सका, क्योंकि उन्होंने अभी तक अपना नामांकन पत्र दाखिल नहीं किया है.हालांकि, 106 उम्मीदवारों के अपना नामांकन पत्र दर्ज करने के बाद आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवारों की संख्या में वृद्धि होने का अनुमान है.

source: News18.com

Myneta.info के अनुसार 2014 में महाराष्ट्र के चंद्रपुर संसदीय क्षेत्र से उम्मीदवार हंसराज गंगाराम के खिलाफ सर्वाधिक आपराधिक मामले दर्ज थे. पिछल लोकसभा चुनाव तक उनके खिलाफ 11 आपराधिक मुकदम दर्ज थे. अहीर 16वीं लोकसभा के सदस्य हैं और केंद्रीय राज्य मंत्री हैं. अहीर के बाद ओडिशा के बालासोर से प्रताप सारंग का नंबर आता है. सारंग के खिलाफ 10 आपराधिक मुकदमे दर्ज थे.

दिलचस्प रूप से आपराधिक मुकदमे वाले नेताओं की सूची में बीजेपी के कद्दावर नेता और वर्तमान सरकार में कई मंत्रालय संभाल रहे नितिन गडकरी का नाम भी शामिल है. 2014 तक गडकरी के खिलाफ पांच आपराधिक मुकदमे दर्ज थे. इस सूची में एक अन्य जाना-पहचाना नाम साक्षी महाराज का भी है.

बीजेपी की पहली सूची में 18 महिला उम्मीदवार भी हैं, जो चुनाव मैदान में होंगी. इस बात पर ध्यान दिया जाना चाहिए की भगवा पार्टी आने वाले कुछ दिनों में अन्य सूची जारी करेगी.

2014 में, एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने 2014 के लोकसभा चुनावों में 543 विजेताओं में से 542 के शपथ पत्रों का विश्लेषण किया और पाया कि बीजेपी के 282 में से 98 नेताओं (35%) पर आपराधिक मुकदमें दर्ज थे, जो लिस्ट में सबसे अधिक थे. वहीं, कांग्रेस के 44 में से 8 उम्मीदवारों पर आपराधिक मुकदमे दर्ज थे.

अध्य्यन में ये भी पाया गया कि आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवारों की जीतने की संभावना बिना आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवारों की तुलना में दोगुनी थी. आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवार की जीतने की संभावना जहा 13% थी वहीं बिना आपराधिक रिकॉर्ड वाले उम्मीदवार के जीतने की संभावना मात्र 5% ही थी.

Leave a Comment