Share
20 हज़ार करोड़ का नमामि गंगे प्रोजेक्ट चला रही थी मोदी सरकार ,फिर भी 3 सालों में क्यों और गन्दा हुआ गंगा का पानी ???

20 हज़ार करोड़ का नमामि गंगे प्रोजेक्ट चला रही थी मोदी सरकार ,फिर भी 3 सालों में क्यों और गन्दा हुआ गंगा का पानी ???

अपने मोदी जी का कहा एक शानदार डायलॉग तो सुना ही होगा जो उन्होंने वाराणसी में अपने प्रचार के दौरान बोला था उन्होंने कहा था की “में आया नहीं हूँ , मुझे गंगा मय्या नें बुलाया है ” लेकिन आपको यह जानते हुए हैरान होगी के मोदी जी नें इस डायलॉग के बाद भी गंगा मायया का ख्याल नहीं रखा | उन्होंने गंगा नहीं की स्वच्छता के लिए 20000 करोड़ रुपए उठाई लेकिन मज़े की बात यह है कि एक एजेंसी नें खुलाया किया है कि गंगा नहीं के हालात 3 साल में पहले ज्यादा बुरे हो गये हें  | अब मोदी जी को गंगा मायया दोबारा बुलाएंगी या नाराज़ हो जाएंगी यह तो जनता ओर उसका मतदान ही बता सकता है |

source: The Indian Express

जनसत्ता के लेख के अनुसार , एक एनजीओ ने अपनी रिपोर्ट में गंगा के पानी को पिछले तीन सालों में पहले से भी खराब होने का दावा किया है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2015 में चलाए गए 20 हजार करोड़ का गंगा नदी को स्वच्छ करने के प्रॉजेक्ट पर सवाल उठाए जा रहे हैं। एनजीओ की रिपोर्ट के मुताबिक कोलीफॉर्म बैक्टीरिया और बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) में बढ़ोत्तरी हुई है।

source: India Today. in

क्या कहता है एनजीओ का सर्वेः

वाराणसी में स्थित एनजीओ संकट मोचन फाउंडेशन (एसएमएफ) ने हाल में ही एक सर्वे में गंगा नदी को तीन साल में सबसे ज्यादा प्रदूषित बताया है। उसने अपने सर्वे के सैंपलों में कोलीफॉर्म बैक्टीरिया और बायोकेमिकल ऑक्सीजन डिमांड (बीओडी) की मात्रा अधिक बताई है। गंगा नदी के जल में ऐसे बैक्टीरिया का अधिक मात्रा में पाए जाने से उसकी जल क्वॉलिटी को कल्पना से भी ज्यादा खराब माना जा रहा है। बता दें कि एनजीओ 1986 से तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी द्वारा लॉन्च किए गए गंगा एक्शन प्लान के तहत गंगा के जल क्वॉलिटी का सर्वे कर रहा है। गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गंगा नदी के संरक्षण, स्वच्छता और कायाकल्प हेतु नमामि गंगे नामक एक प्रॉजेक्ट शूरू किया था। गंगा नदी की स्वच्छता के लिए कुल 20 हजार करोड़ रुपए लगाने का ऐलान 2015 में हुआ था। वहीं 2019 में इसकी डेडलाइन बढ़ाकर 2020 कर दी गई थी।

Related image
source: Gangaaction.org

जल में बैक्टीरिया प्रदूषण पहले से जादा अधिकः

एनजीओ एसएमएफ के नए सर्वे में गंगा के जल की क्वॉलिटी बैक्टीरिया से पूरी तरह प्रदूषित बताई जा रही है। एनजीओ के अध्यक्ष और आईआईटी बीएचयू प्रोफेसर वीएन मिश्रा ने बताया, ‘गंगा जल में कोलीफॉर्म बैक्टीरिया की अधिक संख्या मानव स्वास्थ्य के लिए खतरे की घंटी है।’ सर्वे के अनुसार, पीने के पानी में कोलीफॉर्म ऑर्गनिज्म 50 एमपीएन/100 मिली या इससे कम होना चाहिए। वहीं नहाने के पानी में कोलीफॉर्म 500 एमपीएन प्रति 100 मिली होना चाहिए। जबकि बीओडी में यह 3 एमजी प्रति लीटर से कम होना चाहिए। वहीं यह भी ध्यान देने की बात है कि गंगा नदी के जल में कोलीफॉर्म जनवरी 2016 में 4.5 लाख (अपस्ट्रीम) और 5.2 करोड़ (डाउनस्ट्रीम) से फरवरी 2019 में 3.8 करोड़ और 14.4 करोड़ हो गया है। इसी तरह बीओडी लेवल भी जनवरी 2016 से फरवरी 2019 तक 46.8-54mg/l से 66-78mg/l हो गया है

Leave a Comment