Share
जिस मोबाईल, कम्प्यूटर से मोदी भक्त शोशल मिडिया पर कांग्रेस को कोसते है वो राजीव गांधी की देन है

जिस मोबाईल, कम्प्यूटर से मोदी भक्त शोशल मिडिया पर कांग्रेस को कोसते है वो राजीव गांधी की देन है

देश भर में पूर्व प्रधानमंत्री व भारत रत्न स्व राजीव गांधी मनाया जा रहा है उन्हें याद किया जा रहा है, आज दिल्ली में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी व मनमोहन सिंह, प्रणव मुखर्जी और प्रधानमंत्री मोदी ने भी उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है।

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी को कई प्रमुख काम के लिए हमेशा याद भी किए जाऐंगे जिसके लिए उन्हें आधुनिक भारत के जनक भी कहा जाता है जिन्होनें युवाओं को आत्मनिर्भर बनाने पर अधिक काम किए थे। राजीव गांधी पंचायती राज, डिजिटल इंडिया, जवाहर नवोदय विद्यालय और IGNOU जैसे संस्थान की शुरुआत करने लिये सदियों तक याद किये जायेगे उनके कारण ही आज देश डिजिटल इंडिया के तौर पर काफी विकासशील है उनके नेतृत्व मे देश ने उत्तरोत्तर प्रगति का काम किया था उनके विजन को आज भी युवा पसंद करते हैं उनका मक़सद देश को अात्मनिर्भर बनाना था।

राजीव की दूरदृष्टि सोच का परिणाम है जिसके वजह ये जो आज हर जिलों में जवाहर नवोदय विद्यालय है। जहाँ आज लाखों बच्चे पढते है। राजीव जी के दूरदृष्टि सोच का परिणाम हैं आज पंचायती राज के अंदर करीब 35 लाख से अधिक सदस्य बनकर जनता का प्रतिनिधित्व कर रहें है। राजीव जी के दूरदृष्टि सोच का परिणाम है आज IGNOU कॉलेज स्कूलों के माध्यम से करोडो़ बच्चें पढकर अपना भविष्य सुधार रहें है। राजीव जी के दूरदृष्टि सोच का परिणाम है आज डिजिटल इंडिया के तहत करोडो़ लोगो को डिजिटल मार्केंटिंग, इंटरनेट मार्केंटिंग, बेबपोर्टल, टीवी, मोबाईल जैसे क्षेत्रों में नौकरी कर रहें है और अपना रोजी रोटी चला रहे है। आज घर घर टीवी. मोबाईल, कम्पयूटर है तो इसकी सोच राजीव गांधी की उपज है।

राजीव जी के दूरदृष्टि सोच का परिणाम है जिन्होनें भारतीय दूरसंचार नेटवर्क की स्थापना के लिए सेंटर पार डिवेलपमेंट ऑफ टेलीमैटिक्स(C-DOT)की स्थापना की जिससे शहर से लेकर गांवों तक दूरसंचार का जाल बिछना शुरू हुआ. जगह-जगह पीसीओ खुलने लगे. जिससे गांव की जनता भी संचार के मामले में देश-दुनिया से जुड़ सकी. फिर 1986 में एमटीएनएल की स्थापना किए जिससे दूरसंचार क्षेत्र में और प्रगति हुई और आज हम दुनिया के सबसे बड़े देश है डिजिटल मार्केंटिंग में शामिल है।

राजीव गांधी के प्रयासों के कारण ही आज देश आधे से ज्यादा डिजिटलाइजेशन हो चुका है, राजीव गांधी की वजह से ही हमारा देश जापान व अमेरिका जैसे विकसित देशो की सूची मे शुमार होने लगा है। मौजूदा समय देश में खुले 551 नवोदय विद्यालयों में एक लाख अस्सी हजार से अधिक छात्र पढ़ाई कर रहे हैं. गांवों के बच्चों को भी उत्कृष्ट शिक्षा मिले, इस सोच के साथ राजीव गांधी ने जवाहर नवोदय विद्यालयों की नींव डाली थी. ये आवासीय विद्यालय होते हैं. प्रवेश परीक्षा में सफल मेधावी बच्चों को इन स्कूलों में प्रवेश मिलता है. बच्चों को छह से 12 वीं तक की मुफ्त शिक्षा और हॉस्टल में रहने की सुविधा मिलती है. राजीव गांधी ने शिक्षा क्षेत्र में भी क्रांतिकारी उपाय किए. उनकी सरकार ने 1986 में राष्ट्रीय शिक्षा नीति(NPE) की घोषणा की.इसके तहत पूरे देश में उच्च शिक्षा व्यवस्था का आधुनिकीकरण और विस्तार हुआ है

आज भारत में डिजिटल इंडिया का काफी क्रेज है हर घर में मोबाईल. कम्प्यूटर. टीवी मिल जाता है. आज हर कोई अपनी आवाज को रखने के लिए शोशल मिडिया इस्तेमाल करते है. उसी मोबाईल कम्प्यूटर को इस्तेमाल करते है जिसे राजीव ने भारत में क्रांति के तौर पर युवाओं की जरुरत को तौर पर घर घर पहुँचाने की कोशिश की. राजीव ने मोबाईल कम्प्यूटर को बढाना देते वक्त भी कभी नही सोचा होगा कुछ साल बाद उन्हीं के खिलाफ व्हाट्सप यूनिवर्सिटी के माध्यम से फर्जी फोटों फर्जी विडियों फर्जी मैसेज लोगों को भेजे जाएंगे राजीव के योगदान पर सवाल उठाए जाएंगे। कांग्रेस के इतिहास को नकारे जाएंगे। कांग्रेस और राजीव को पाकिस्तान परस्त बताए जाऐंगे। शायद उन्होनें कभी नही सोचा होगा।

बरहाल राजीव गांधी के प्रयासों से ही देश मे इतना शैक्षिक विकास और डिजिटल नेटवर्क संभव हो पाया है उनके किये कामों को सदियों तक याद किया जायेगा राजीव गांधी ने देश के युवाओ को मताधिकार और राजनीति मे सहभागिता का हक प्रदान किया था, पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी कहते थे ” भारत एक प्राचीन देश है लेकिन एक युवा राष्ट्र है मै जवान हूँ मेरा भी एक सपना है भारत को मजबूत, स्वतंत्र, आत्मनिर्भर और दुनिया के सभी देशो मे प्रथम रैंक मे लाना और मानव जाति की सेवा करना है ”

Leave a Comment