Share
पश्चिम बंगाल में उड़ी BJP की नींद, राहुल में मिलाया CPM से हाथ | जानिए पूरी ख़बर

पश्चिम बंगाल में उड़ी BJP की नींद, राहुल में मिलाया CPM से हाथ | जानिए पूरी ख़बर

LOKSABHA 2019 का चुनाव करीब और सभी PM की गद्दी को हासिल करने में लगे हें वहीं बात अगर पश्चिम बंगाल की करें तो वहां BJP की नींद उड़ गयी हैं | वहां कांग्रेस नें CPM से हाथ मिला लिया हा जो बीजेपी के लिए कहीं से भी अच्छी खबर नहीं है . बात पिछले चुनावों की करें तो पहले भी वहां बीजेपी नें कुछ खास कमाल नहीं किया है .

लोकसभा चुनाव के लिए पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। देश में इस बार महागठबंधन पर चर्चा हो रही है। वहीं भाजपा अपने सहयोगी दलों के साथ लोकसभा चुनाव की तैयारी में जुटी हुई है। बीजेपी का इस बार विशेष तौर पर पश्चिम बंगाल पर फोकस है। पश्चिम बंगाल पूरी तरह ममता बनर्जी का गढ़ है। चुनाव से पहले ही भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है। दोनों एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप के बाण चला रहे हैं। ममता ने जहां भाजपा की रैलियों पर रोक लगा दी। वहीं पुलिस कमिश्रर राजीव कुमार के घर सीबीआई छापे के लिए ममता बनर्जी धरने पर भी बैठ गई। बंगाल में ममता की ताकत का अंदाजा इस बात से लगा सकते हैं कि वर्ष 2014 में मोदी लहर के बावजूद तृणमूल कांग्रेस ने 42 सीटों में से 34 सीटों पर कब्जा जमाया था।

source: The Indian Express

पश्चिम बंगाल में 2014 लोकसभा चुनाव के परिणाम पर एक नजर-

2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर बंगाल में फिसड्डी साबित हुई थी। ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस ने 42 लोकसभा सीटों में से 34 सीटों पर कब्जा जमाया था। भाजपा यहां तीसरे नंबर की पार्टी रही थी। बीजेपी के खाते में महज दो सीटें आई थी। वहीं दो सीटें लेफ्ट और चार सीटें कांग्रेस को हासिल हुई।

Image result for CPM

कांग्रेस-सीपीएम गठबंधन की ओर-

ममता बनर्जी का समर्थन करने वाले राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में उनसे किनारा कर लिया है। कांग्रेस ने ममता की पार्टी से गठबंधन ना कर सीपीएम से हाथ मिलाने का फैसला लिया है। 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने चार और सीपीएम ने दो सीटों पर कब्जा किया था। दोनों पार्टियों में सीटों को लेकर चर्चा चल रही हैं।

BJP बस इन मुद्दों के सहारे-

हिंदूत्व वोटरों का कार्ड खेलने वाली भाजपा पश्चिम बंगाल में चुनाव के वक्त इसी मुद्दों को भुनाने की पूरी कोशिश करेगी। लगभग 10 करोड़ की आबादी वाले पश्चिम बंगाल में हिंदुओं की हिस्सेदारी 70.54 है। भाजपा हिंदुओं वोटर को अपनी तरफ आकर्षित करने की पूरी कोशिश कर रही है। नागरिकता संशोधन बिल बंगाल में बड़ा मुद्दा होगा। बांग्लादेश से आने वाले हिंदू प्रवासियों समेत कई समुदायों को नागरिकता के मुद्दे पर राहत मिलेगी। भाजपा इस मुद्दे के सहारे बंगाल में अपनी जड़ें मजबूत करना चाहती है।

 

Leave a Comment