Share
वाराणसी: आर्थिक तंगी से जूझ रहे शख्स ने 3 मासूम बेटियों के साथ जहर खाकर की आत्महत्या

वाराणसी: आर्थिक तंगी से जूझ रहे शख्स ने 3 मासूम बेटियों के साथ जहर खाकर की आत्महत्या

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी से दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है. यहां एक बाप ने अपनी तीन मासूम बेटियों के साथ जहर खाकर जान दे दी है. इस घटना के बाद से इलाके में हड़कंप मच गया है. आत्महत्या करने की वजह आर्थिक तंगी बताई जा रही है. मृतक दीपक गुप्ता वाराणसी के लक्सा थाने के नई सड़क गीता मंदिर इलाके का रहने वाला था.

बताया जा रहा है कि दीपक गुप्ता उर्फ लड्डू (30) ठेले पर रेडिमेड कपड़े बेचता था उसने अपनी 9 वर्षीय बेटी नव्या, 7 वर्षीय अदिति और 5 वर्षीय रिया के साथ आत्महत्या की, उस वक्त उसकी पत्नी घर पर नहीं थी. दीपक गुप्ता ने अपनी पत्नी को पीटकर मायके भेज दिया था. फिलहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है. पुलिस का कहना है कि खुदकुशी की वजह की जांच की जा रही है.

मृतक दीपक गुप्ता की भतीजी साक्षी ने बताया कि बुधवार रात चाचा दीपक की तीन बेटियां नव्या, अदिति और रिया बाहर आंगन में सोई हुई थीं. इस दौरान दीपक गुप्ता आए और उनको उठाकर कमरे में ले गए. इसके बाद वो दादी के कमरे में टीवी देखने लगे. कुछ देर बाद छोटी वाली बेटी रिया आई और दादी से बोली की पापा ने उनको कुछ पीला दिया है.

रेडीमेड कपड़े बेचकर करता था गुजारा

लक्सा थाना इलाके के गीतामंदिर के निकट रहने वाला दीपक उर्फ लड्डू ठेले पर रेडीमेड कपड़े बेचता था। बताया जा रहा है कि, तीन दिन पहले दीपक का उसकी पत्नी अनीता से किसी बात पर झगड़ा हुआ था। मामला पुलिस तक पहुंचा तो दोनों समझा बुझाकर साथ रहने के लिए राजी कर लिया गया। बुधवार को एक बार फिर विवाद हुआ तो दीपक पत्नी को उसके मायके छोड़ आया।

साक्षी ने बताया कि इस पर दादी कमरे में गईं और तीनों बेटियों और चाचा दीपक को उठाकर अपने साथ लेकर बाहर आईं. इसके बाद चाचा दीपक गुप्ता टॉयलेट चले गए और बच्चियों को उलटी शुरू हो गई. इसके तुरंत बाद तीनों बच्चियों को कबीरचौरा ले जाया गया. दूसरी तरफ चाचा दीपक गुप्ता भी टॉयलेट से निकले और बेसुध होकर जमीन पर गिर गए. फिर उनको भी कबीरचौरा ले जाया गया. वहां चारों की तबियत बिगड़ते देख नव्या के मामा सबको ट्रामा सेंटर ले गए, जहां सबकी मौत हो गई.

बताया जा रहा है कि जब परिजनों को दीपक गुप्ता के जहर खाने की जानकारी मिली, तो उनको फौरन पहले कबीरचौरा और फिर ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान चारों ने दम तोड़ दिया. परिजनों के मुताबिक मृतक दीपक गुप्ता के ऊपर कर्ज का बोझ था, जिससे वह परेशान रहता था. हालांकि आस-पड़ोस के कुछ लोग आईपीएल में सट्टेबाजी की बात कर रहे हैं.

उधर, बीता रात हुई इस सनसनीखेज घटना से पूरा बनारस स्तब्ध है. यह घटना उस समय सामने आई है, जब देश में लोकसभा चुनाव हो रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में अंतिम चरण में 19 मई को वोट डाले जाएंगे. यहां से भारतीय जनता पार्टी के टिकट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरी बार ताल ठोंक रहे है. पिछली बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां से लोकसभा चुनाव जीता था और पहली बार संसद पहुंचे थे.

अभी खुदकुशी के कारणों का खुलासा नहीं

एसपी दिनेश सिंह ने बताया कि, पुलिस ने कमरे से सल्फास की खाली शीशी भी बरामद की है, बाकी पूछताछ और जांच जारी है। आत्महत्या का कारण क्या है ये जांच के बाद ही स्पष्ट होगा। आर्थिक तंगी खुदकुशी की वजह नहीं है। उन्होंने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर मौत की वजह पूरी तरह स्पष्ट हो पाएगी। मामले की जांच की जा रही है। उधर, सूचना पाकर कांग्रेस प्रत्याशी अजय राय भी दीपक के घर परिजनों को ढांढस बंधाने पहुंचे।

Leave a Comment