Share

16 दिसंबर से कांग्रेस अध्यक्ष पद का कार्यभार संभालेंगे राहुल गाँधी|

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को सोमवार (11 दिसंबर) को पार्टी का अध्यक्ष निर्वाचित घोषित कर दिया गया। वह 16 दिसंबर को कांग्रेस अध्यक्ष पद का कार्यभार संभालेंगे। कांग्रेस के केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष एम रामचंद्रन ने बताया कि राहुल गांधी को पार्टी के संविधान के अनुसार अध्यक्ष घोषित किया जाता है। कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में आज नामांकन वापस लेने की अंतिम तारीख थी।न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक रामचंद्रन ने बताया कि राहुल के पक्ष में 89 नामांकन पत्रों के सेट दाखिल किये गये थे। नामांकन पत्रों की जांच में सभी सेट सही पाये गये। उन्होंने बताया कि राहुल गांधी 16 दिसंबर को सुबह 11 बजे प्राधिकरण से अध्यक्ष निर्वाचित होने का प्रमणपत्र लेने के लिये 24 अकबर रोड स्थित कांग्रेस मुख्यालय आएंगे।

कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता अजय माकन ने संवाददाताओं को बताया कि 16 दिसंबर को ही राहुल गांधी अध्यक्ष पद का दायित्व संभालेंगे। राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष की जिम्मेदारी संभालते ही उनकी मां सोनिया गांधी का पार्टी प्रमुख के तौर पर 19 साल का कार्यकाल खत्म हो जाएगा। मौजूदा अध्यक्ष सोनिया गांधी 1998 से लेकर अब तक सबसे लंबे समय तक कांग्रेस अध्यक्ष रहीं।करीब सवा सौ साल पुरानी कांग्रेस पार्टी में भले ही सोनिया गांधी सबसे अधिक समय तक अध्यक्ष पद पर आसीन रही हो, लेकिन आजादी के बाद पार्टी का नेतृत्व करने वाले कुल 18 नेताओं में से 14 नेहरू-गांधी परिवार से नहीं हैं। राहुल गांधी नेहरू-गांधी परिवार की पांचवीं पीढ़ी के पांचवें ऐसे व्यक्ति हैं जो कांग्रेस अध्यक्ष बनने जा रहे हैं।यदि आजादी के बाद कांग्रेस अध्यक्ष पद पर नजर डाले तो पूर्व पीएम जवाहरलाल नेहरू ने प्रधानमंत्री रहते समय पांच वर्ष, इंदिरा गांधी भी करीब पांच वर्ष, राजीव गांधी भी करीब पांच वर्ष तथा पीवी नरसिंह राव ने भी करीब चार वर्ष तक इस जिम्मेदारी को संभाला। कांग्रेस में लालबहादुर शास्त्री एवं मनमोहन सिंह दो ऐसे नेता हैं जो प्रधानमंत्री तो बने, लेकिन पार्टी के अध्यक्ष नहीं बन पाए।आजादी के बाद सोनिया गांधी जहां 19 वर्ष तक कांग्रेस अध्यक्ष पद पर रहीं, वहीं इस मामले में दूसरे स्थान पर उनकी सास इंदिरा गांधी रहीं जिन्होंने अलग-अलग बार कुल सात साल तक इस दायित्व को निभाया।

 

Leave a Comment